Surya Mudra/सूर्य मुद्रा के विधि और लाभ !!

Surya Mudra

Surya Mudra

सूर्य मुद्रा के विधि और लाभ !

सूर्य मुद्रा के विधि

1. सिद्धासन, पदमासन या सुखासन में बैठ जाएँ |

2. दोनों हाँथ घुटनों पर रख लें हथेलियाँ उपर की तरफ रहें |

3. अनामिका अंगुली (रिंग फिंगर) को मोडकर अंगूठे की जड़ में लगा लें एवं उपर से अंगूठे से दबा लें |

4. बाकि की तीनों अंगुली सीधी रखें |

सावधानियां

1. अधिक कमजोरी की अवस्था में सूर्य मुद्रा नही करनी चाहिए |

2. सूर्य मुद्रा करने से शरीर में गर्मी बढ़ती है अतः गर्मियों में मुद्रा करने से पहले एक गिलास पानी पी लेना चाहिए |

मुद्रा करने का समय व अवधि

1. प्रातः सूर्योदय के समय स्नान आदि से निवृत्त होकर इस मुद्रा को करना अधिक लाभदायक होता है | सांयकाल सूर्यास्त से पूर्व कर सकते हैं |

2. सूर्य मुद्रा को प्रारंभ में 8 मिनट से प्रारंभ करके 24 मिनट तक किया जा सकता है |

चिकित्सकीय लाभ

1. सूर्य मुद्रा को दिन में दो बार 16-16 मिनट करने से कोलेस्ट्राल घटता है |

2. अनामिका अंगुली पृथ्वी एवं अंगूठा अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता है, इन तत्वों के मिलन से शरीर में तुरंत उर्जा उत्पन्न हो जाती है |

3. सूर्य मुद्रा के अभ्यास से मोटापा दूर होता है | शरीर की सूजन दूर करने में भी यह मुद्रा लाभकारी है |

4. सूर्य मुद्रा करने से पेट के रोग नष्ट हो जाते हैं |

5. इस मुद्रा के अभ्यास से मानसिक तनाव दूर हो जाता है |

6. प्रसव के बाद जिन स्त्रियों का मोटापा बढ़ जाता है उनके लिए सूर्य मुद्रा अत्यंत उपयोगी है | इसके अभ्यास से प्रसव उपरांत का मोटापा नष्ट होकर शरीर पहले जैसा बन जाता है |

आध्यात्मिक लाभ

1. सूर्य मुद्रा Surya Mudra के अभ्यास से व्यक्ति में अंतर्ज्ञान जाग्रत होता है |

…. ???? ….

You may also like...

error: