डेंगू बुखार / Dengue Fever

डेंगू बुखार / Dengue Fever

 

कब दिखती है डेंगू का बुखार बीमारी :

काटे जाने के करीब 3-5 दिनों के बाद मरीज में डेंगू बुखार के लक्षण दिखने लगते हैं । शरीर में बीमारी पनपने की मियाद 3 से 10 दिनों की भी हो सकती है ।

ये टेस्ट जरूर करवाएं अगर तेज बुखार हो, जॉइंट्स में तेज दर्द हो या शरीर पर रैशेज हों तो पहले दिन ही डेंगू का टेस्ट करा लेना चाहिए ।

डेंगू की जांच के लिए शुरुआत में एंटीजन ब्लड टेस्ट (एनएस 1) किया जाता है। जिसमें डेंगू किस प्रकार का है यह पता चल जाता है। इस टेस्ट में डेंगू शुरू में ज्यादा पॉजिटिव आता है, जबकि बाद में धीरे-धीरे पॉजिविटी कम होने लगती है । ये टेस्ट खाली या भरे पेट, कैसे भी कराए जा सकते हैं ।

डेंगू के ज्यादातर मामलों में मच्छर के काटने से हल्का बुखार होता है लेकिन डेंगू बुखार /dengue fever कुछ तरह का होता है । ये इस प्रकार से हैं :-

1.साधारण डेंगू बुखार

2.डेंगू हॅमरेजिक बुखार (डीएचएफ/DHF) & डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस/DSS)

 

साधारण डेंगू बुखार

साधारण डेंगू बुखार करीब 5 से 7 दिन तक रहता है जिसके बाद मरीज ठीक हो जाता है। ज्यादातर मामलों में इसी किस्म का डेंगू बुखार पाया जाता है। क्लासिकल डेंगू बुखार के लक्षण ये हैं :

1.ठंड लगने के बाद अचानक तेज बुखार होना ।

2.सिर, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द होना ।

3.आंखों के पिछले हिस्से में दर्द होना, जो आंखों को दबाने या हिलाने से और बढ़ जाता है ।

4.बहुत कमजोरी लगना, भूख न लगना, जी मितलाना और मुंह का स्वाद खराब होना ।

5.गले में हल्का दर्द होना ।

6.शरीर खासकर चेहरे, गर्दन और छाती पर लाल-गुलाबी रंग के रैशेज होना ।

 

डेंगू हॅमरेजिक बुखार (डीएचएफ) & डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस)

अगर साधारण डेंगू बुखार के लक्षणों के साथ-साथ ये लक्षण भी दिखाई दें तो डीएचएफ हो सकता है। ब्लड टेस्ट से इसका पता लग सकता है। ये हैं डेंगू हॅमरेजिक के लक्षण :

1.नाक और मसूढ़ों से खून आना ।

2.शौच या उल्टी में खून आना ।

3.स्किन पर गहरे नीले-काले रंग के छोटे या बड़े निशान पड़ जाना ।

इस बुखार में (DHF) के लक्षणों के साथ-साथ ‘शॉक’ की अवस्था के भी कुछ लक्षण दिखाई देते हैं । जैसे कि :

1.मरीज को बेचैनी होना ।

2.तेज बुखार के बावजूद उसकी त्वचा का ठंडा होना ।

3.मरीज का धीरे-धीरे बेहोश होना ।

4.मरीज की नाड़ी कभी तेज और कभी धीरे चलने लगती है। उसका ब्लड प्रेशर एकदम लो हो जाना ।

इन तीनों में से डेंगू हॅमरेजिक बुखार और डेंगू शॉक सिंड्रोम का डेंगू सबसे ज्यादा खतरनाक होते है । साधारण डेंगू बुखार अपने आप ठीक हो जाता है और इससे जान को खतरा नहीं होता लेकिन अगर किसी को DHF या DSS है और उसका फौरन इलाज शुरु किया जाना चाहिए ।

 

When the Dengue Fever disease appears

The symptoms of dengue fever start appearing in the patient about 3-5 days after the bite. The duration of the disease in the body can also be 3 to 10 days.

These tests must undergo if high fever, may be a sharp pain in Joints or rashes body should be able to test for the disease earlier in the day.

The antigen blood test (NS1) is initially performed to check for dengue. In which it is known what type of dengue is. In this test, dengue is initially more positive, while later the positivity starts decreasing gradually. These tests can be done either on an empty or full stomach.

In most cases of dengue, mosquito bites cause mild fever but there are some ways of dengue fiver. They are as follows: –

1.Simple Dengue Fever.

2.Dengue Hemorrhagic Fever (DHF) & Dengue Shock Syndrome (DSS).

Simple Dengue Fever

Simple dengue fever lasts for about 5 to 7 days after which the patient recovers. This type of dengue fever is found in most cases. Symptoms of  this dengue fever are.

1.A sudden high fever after a cold.

2.Pain in head, muscles and joints.

3.Pain in the back of the eyes, which is aggravated by pressing or moving the eyes.

4.Very weakness, loss of appetite, nausea and poor taste in mouth.

5.Mild pain in throat.

6.Red-pink color rash on the body, especially on the face, neck and chest.

 

Dengue Hemorrhagic Fever (DHF) & Dengue Shock Syndrome (DSS)

If the symptoms of (Simple Dengue Fever) appear along with these symptoms then DHF can occur. It can be detected by blood test. These are the symptoms of Dengue Hemorrhagic.

1.Bleeding from nose and gums.

2.Bleeding in defecation or vomiting.

3.Small or large markings of dark blue-black color on the skin.

In this fever, along with symptoms of (DHF), some symptoms of ‘shock’ are also seen such as.

1.Restlessness to the patient.

2.Coldness of his skin despite high fever.

3.Slow unconsciousness of the patient.

4.The pulse of the patient sometimes starts moving fast and sometimes slowly. His blood pressure drops completely.

Out of these three, dengue is the most dangerous of haemorrhagic fever and dengue shock syndrome. Simple dengue fever is cured on its own and does not endanger life, but if anyone has DHF or DSS, treatment should be started immediately.

…. Praying_Emoji_grande Praying_Emoji_grande ….