Importance of Shradh according to Puranas

Share:

Importance of Shradh according to Puranas

Importance of Shradh according to Puranas

जानिए पुराणों के अनुसार श्राद्ध का महत्व

1.कुर्मपुराण

कुर्मपुराण में कहा गया है कि ‘जो प्राणी जिस किसी भी विधि से एकाग्रचित होकर श्राद्ध करता है, वह समस्त पापों से रहित होकर मुक्त हो जाता है और पुनः संसार चक्र में नहीं आता।’

2.गरुड़ पुराण 

इस पुराण के अनुसार ‘पितृ पूजन (श्राद्धकर्म) से संतुष्ट होकर पितर मनुष्यों के लिए आयु, पुत्र, यश, स्वर्ग, कीर्ति, पुष्टि, बल, वैभव, पशु, सुख, धन और धान्य देते हैं।

3.मार्कण्डेय पुराण 

इसके अनुसार ‘श्राद्ध से तृप्त होकर पितृगण श्राद्धकर्ता को दीर्घायु, सन्तति, धन, विद्या सुख, राज्य, स्वर्ग और मोक्ष प्रदान करते हैं।

4.ब्रह्मपुराण

इसके अनुसार ‘जो व्यक्ति श्रद्धा-भक्ति से श्राद्ध करता है, उसके कुल में कोई भी दुःखी नहीं होता।’ साथ ही ब्रह्मपुराण में वर्णन है कि ‘श्रद्धा एवं विश्वास पूर्वक किए हुए श्राद्ध में पिण्डों पर गिरी हुई पानी की नन्हीं-नन्हीं बूंदों से पशु-पक्षियों की योनि में पड़े हुए पितरों का पोषण होता है। जिस कुल में जो बाल्यावस्था में ही मर गए हों, वे सम्मार्जन के जल से तृप्त हो जाते हैं।

Know More If you are not able to do Shradh with Pandit

 श्राद्ध विशेष/Shradh special

जो कर्म श्रद्धापूर्वक किया जाय उसे श्राद्ध कहते हैं । श्राद्ध  अवश्य करना चाहिए ।

भगवान सूर्य कहते हैं : जो व्यक्ति श्राद्ध नहीं करता, उसकी पूजा न तो मैं, न तो कोई देवता ग्रहण करते हैं । श्राद्ध न करनेवाला घोर तामिस्त्र नरक पाता है और अंत में सुकर योनि में उत्पन्न होता है ।

देवताओं को अन्न का भाग देने के लिए मंत्र के पीछे “स्वाहा” शब्द का और पितरों को भाग देने के लिए श्राद्ध में 3 बार “स्वधा”शब्द का उच्चारण करना चाहिए ।

श्राद्ध में 3 वस्तुएँ पवित्र मानी गई हैं :

1.तिल, 2.दौहित्र (पुत्री का पुत्र), 3.कुतप (दिन के आठवे प्रहर में जब सूर्य का ताप घटने लगता है, उस समय को कुतप कहते हैं) । उसमें पितरों को दिया हुआ दान अक्षय होता है ।               

गाय का दही, दूध, घी व शक्कर आदि से युक्त अन्न पितरों के लिए तृप्तिकारक होते हैं । शहद मिलाकार तैयार किया हुआ कोई भी पदार्थ तथा गाय का घी व दूध मिलाकर बनाई हुई खीर भी पितरों को दी जाय तो वह अक्षय होती है ।

पितरों को क्या प्रिय है और क्या अप्रिय

पितरों को प्रिय

कुश,  साठी चावल, जौ, गन्ना, मूंग, सफ़ेद फूल, शहद, गाय का दूध एवं घी ये वस्तुएँ पितरों को सदा प्रिय हैं अतः श्राद्ध में इनका उपयोग करें ।

पितरों को अप्रिय

मसूर, मटर, कमल, बिल्व, धतूरा, भेड़-बकरी का दूध इन वस्तुओं का उपयोग श्राद्ध में न करें ।

सर्वपितृ अमावस्या/Sarvapitra Amavasya

श्राद्ध पक्ष की अमावस्या को सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या कहते हैं। मान्यता है कि इस दिन सभी ज्ञात-अज्ञात पितरों का श्राद्ध करने से उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस बार 19 सितंबर, मंगलवार को यह अमावस्या है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, श्राद्ध पक्ष की अमावस्या पर कुछ विशेष उपाय करने से पितृ प्रसन्न होते हैं और पितृ दोष भी कम होता है। 20 सितंबर, बुधवार को भी स्नान, दान अमावस्या रहेगी। इसलिए इस दिन भी ये उपाय किए जा सकते हैं।

1.पीपल में पितरों का वास माना गया है ।सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या पर पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं और गाय के शुद्ध घी का दीपक लगाएं ।

2.सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या पर किसी ब्राह्मण को भोजन के लिए घर बुलाएं या भोजन सामग्री जिसमें आटा, फल, गुड़ आदि का दान करें ।

3.इस अमावस्या पर किसी पवित्र नदी में काले तिल डालकर तर्पण करें ।इससे भी पितृगण प्रसन्न होते हैं ।

4.सर्वपितृ मोक्ष अमावस्या पर अपने पितरों को याद कर गाय को हरा चारा खिला दें ।इससे भी पितृ प्रसन्न व तृप्त हो जाते हैं ।

5.इस अमावस्या पर चावल के आटे से 5 पिडं बनाएं व इसे लाल कपड़े में लपेटकर नदी में प्रवाहित कर दें ।

6.अमावस्या पर गाय के गोबर से बने कंड़े को जलाकर उस पर घी-गुड़ की धूप दें और पितृ देवताभ्यो अर्पणमस्तु बोलें ।

7.इस अमावस्या पर कच्चा दूध, जौ, तिल व चावल मिलाकर नदी में प्रवाहित करें ।ये उपाय सूर्योदय के समय करें तो अच्छा रहेगा ।

 

…. Praying_Emoji_grande Praying_Emoji_grande ….